सतना में 51 दिन में कोर्ट ने सुनाई मासूम से दुष्कर्म के आरोपी को मौत की सजा

सतना में 51 दिन में कोर्ट ने सुनाई मासूम से दुष्कर्म के आरोपी को मौत की सजा

सतना। सतना के परसमनिया में मासूम के साथ दुष्कर्म करने वाले दोषी को कोर्ट ने फांसी की सजा सुनाई है। कोर्ट ने इस मामले में सिर्फ 51 दिनों में फैसला सुनाया है। नागौद कोर्ट में अपर सत्र न्यायाधीश दिनेश कुमार शर्मा आरोपी को दोषी करार देते हुए सजा का एलान किया।

महेन्द्र सिंह गौड़ नाम के शख्स ने 30 जून की रात को 4 साल की मासूम के साथ दुष्कर्म की वारदात को अंजाम दिया था। दुष्कर्म जंगल में किया गया था।

क्या है पूरा घटनाक्रम

30 जून की रात जिले के उचेहरा क्षेत्र में घर के आंगन में पिता के साथ सो रही एक 4 साल की मासूम बच्ची को नशे में धुत महेन्द्र सिंह गौंड (25) उठा ले गया था। घर से एक किमी दूर खेत में ले जाकर दुष्कर्म किया और मरा समझकर बच्ची को वहां छोड़कर भाग निकला। घटना को अंजाम देने से पहले दोषी युवक रात 10 बजे पीड़ित बच्ची के घर पहुंचा और उसके पिता से बातचीत की। इसके बाद वो घर जाने का कहकर वहां से चला गया। लेकिन, वह घर के पास ही छिप गया। रात 12 बजे जब पिता शौच के लिए गए तो उसने आंगन में सो रही मासूम को उठा ले गया। इधर पिता जब घर लौटे तो बच्ची चारपाई में नहीं थी, बच्ची की मां से पूछा तो उसे भी कुछ पता नहीं था। परिजन ग्रामीणों की सहायता से बच्ची को खोजने निकल गए।

खेत में मिली थी बच्च

रात 2 बजे घर से करीब एक किमी दूर एक खेत में बच्ची गंभीर हालत में मिली थी। बच्ची को अस्पताल में भर्ती कराया, यहां से उसे जबलपुर मेडिकल कॉलेज रेफर कर दिया गया। लोगों का आक्रोश बढ़ने के बाद प्रदेश सरकार ने बच्ची को इलाज के लिए एम्स दिल्ली भेज दिया। यहां उसका अभी भी इलाज चल रहा है।

Tags: